Friday, June 11, 2010

पिछले दिनों मायामृग ने पुस्तक पर्व के नाम पे जो दुष्कृत्य (?) किया उससे साहित्यिक जगत (??)में भारी उद्वेलन उत्पन्न हुआ और इस प्रकरण पर काफी गंभीर (???) वैचारिक (????) विमर्श(?????) भी हुआ।
अब तो ठंडा भी पड़ने लगा है। फिर आप्त वाक्य या अंतिम टिप्पणी एक लतीफे के रूप में -
एक पति था .पति जैसा( पति परम गुरु )पति। और एक पत्नी थी ,पत्नी जैसी (कार्येषु दासी, क्षमा धरित्री ...)पत्नी। तो दोनों साथ रहते, पत्नी खाना बनाती और पति नुक्स निकालते .(भई विवाह सिद्ध अधिकार जो ठहरा )
एक दिन पत्नी ने अंडा बनाया पति ने प्लेट फैंक दी -किसने कहा अंडा बनाने को ?
अगले दिन पत्नी ने आमलेट बनाया ,पति ने थप्पड़ जमाया -मूर्ख ,किसने कहा आमलेट बनाने को?
अगले दिन पत्नी ने एक प्लेट में उबला अंडा और एक प्लेट में आमलेट बना के रखा, पति ने लात मारी -बेवकूफ ये भी नहीं जानती किस अंडे को उबालना होता है और किस का आमलेट बनाना होता है।
जय हो .

4 comments:

  1. WAH ! BAHUT KHOOB !
    IS SE BADHIYA TIPPNI YA PRATIKRIYA KYA HO SAKTI HAI !
    BADHAI KAHUN YA DHNYAWAD !

    ReplyDelete
  2. नमस्‍कार,

    राजस्‍थान से नित्‍य-प्रति अनेक चिट्ठे (ब्‍लॉग) लिखे जा रहे हैं। हम जैसे अनेक हैं जो उनको पढ़ना चाहते हैं। खासकर चुनिंदा ताजा प्रविष्ठियों को।
    परंतु दिक्‍कत ये आती है कि एक जगह सभी की सूचना उपलब्‍ध नहीं है। कुछ प्रयास भी इस दिशा में हुए हैं और कुछ चल भी रहे हैं।
    हमने 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' मंच के माध्‍यम से एक प्रयास आरम्‍भ किया है। ब्‍लॉग एग्रीगेटर के रूप में। इसमें आपकी ताजा लिखी पोस्‍ट दिखेगी, बशर्ते आपका चिट्ठा इससे जुड़ा है।

    अगर आप अब तक नहीं जुडे़ तो
    http://rajasthanibloggers.feedcluster.com/
    पर क्लिक कीजिए और
    Add my blog
    पर जाते हुए अपने ब्‍लॉग का यूआरएल भरिए।
    आपका ब्‍लॉग 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' से शीघ्र जुड़ जाएगा और फिर मेरे जैसे अनेक पाठक आपकी पोस्‍ट तथा आपके ब्‍लॉग तक आसानी से पहुंचेगें।

    कृपया साझा मंच बनाने के इस प्रयास में सहभागिता निभाएं।
    आप भी जुड़ें और राजस्‍थान के अपने दूसरे मित्र ब्‍लॉगर्स को भी इस सामग्री की कॉपी कर मेल करें।
    सूचित करें।

    नित्‍य-प्रति हम एक-दूसरे से जुड़ा रहना चाहते हैं। ब्‍लॉगिंग का विस्‍तार ही हमारा ध्‍येय हैं।

    सुझाव-सलाह आमंत्रित है।

    सादर।

    दुलाराम सहारण
    चूरू-राजस्‍थान
    www.dularam.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. सम्मानिया मेम ,
    प्रणाम !
    पहली बार आप के ब्लॉग पे आने का अवसर प्राप्त हुआ , achcha लगा ,
    सादर

    ReplyDelete
  4. very good.Samajha ne wale samajha gaye aaapne bahut accha example diya.Or kya
    chahiye kalam ki bhasa bahut satik or
    factual ha.

    ReplyDelete